Poetry

बेवजह तुमसे मिलने के बहाने बनाता हूँ,
इक गुफ्तगू को खाली शाम तलाशता हूँ,
पता है कि तुम मना कर दोगी,
बस उम्मीदों के सहारे दिल को ढाढस बंधाता हूँ।

Copyright © 2017, Aashish Barnwal,  All rights reserved.
Read more

कुछ अलग ही कशिश थी उस शाम की हवाओं में,
ना चाहते हुए भी दिल बन्ध सा गया था,
निगाहें थम गई थी,
उसके चेहरे पर जम सी गई थी,
शायद हमारी बातों में ही कोई कमी रह गई होगी,
वरना एक और मुलाक़ात का हफ़्तों इंतजार ना करना पड़ता।

Copyright © 2017, Aashish Barnwal,  All rights reserved.
Read more

हमारी कहानी उसी दिन ख़त्म हो गई,
जिस वक़्त हमारी नज़रें तुमसे मिली,
शायद इश्क़ हो गया है तुमसे,
वरना हर मुस्कराहट की वजह तुम ना होती।

Copyright © 2017, Aashish Barnwal,  All rights reserved.
Read more

तुम्हे सोचते सोचते रात यूँ ही निकल जाएगी,
इक तूफ़ान सा है दिल में, नींद कहाँ आएगी,
कल कि मुलाक़ात ना जाने क्या अंजाम लाएगी,
तेरे चेहरे पर मुस्कान आएगी या ख्वाइश अधूरी रह जाएगी।

Copyright © 2017, Aashish Barnwal,  All rights reserved.
Read more

कुछ बातें बिन कहे ब्यान हो जाती हैं,
कुछ इशारे, आँखें सब कह जाती हैं,
इक शाम यूँ ही मोहब्बत हो जाती है,
और किसी शायर को उसकी शायरी मिल जाती है।

Copyright © 2017, Aashish Barnwal,  All rights reserved.
Read more

राह चलते वक़्त से मुलाक़ात हो गई,
दिल किया कि कुछ तोहफे दे दूँ,
जेबों में हाथ डाला तो बस लम्हों को पाया,
कुछ हँसी के, कुछ गम के,
कुछ सुख के, कुछ रम के,
वक़्त ने कहा रख ले इन्हे अपने पास,
इन लम्हों में ही तेरी ज़िन्दगी है,
पहली नौकरी कि ख़ुशी, पहले प्यार का एहसास,
माँ बाप के आँखों में खुशियों कि बरसात,
जब तुम बूढ़े हो जाओगे,
जब दुनिया में तुम्हारी जरुरत कम होगी,
तब यही लम्हे तुम्हारे जीने का सहारा होंगी।

Copyright © 2017, Aashish Barnwal, All rights reserved.
Read more

आपकी आँखों के पन्नो में,
इतने गहरे राज़ हैं,
लाखों हमने पढ़ लिए,
फिर भी बेशुमार हैं,
उन समुन्दर सी आँखों ने,
हमे यूँ ब्यान करना सिखा दिया,
हमे तो दो लफ़्ज़ों का सलीका ना था,
और आपके इश्क़ ने हमे शायर बना दिया।

Copyright © 2017, Aashish Barnwal,  All rights reserved.
Read more

Sometimes you would find the goal is too far,
Sometimes you would find things to be falling apart,
Sometimes you would feel everything is wrong,
Sometimes you would feel sadness in every song,
Sometimes the world around would seem to down you,
Sometimes noone would understand what you’re going through,
Sometimes your friends would leave you alone,
Sometimes your sorrows would break you bone by bone,
Sometimes you won’t be able to think straight,
Sometimes you would lose faith in your fate,
Sometimes your every effort would seem to fail,
Sometimes you would be left frustrated as hell,
Sometimes you would feel like ending up your life,
Sometimes you would feel you have no choice,
If you’re fond of roses my friend,
Of the nearby thorns, must not you be afraid,
You must believe in yourself and be strong,
You must fight back and right what is wrong,
Push harder, try again,
Whatever you do, must not you loose your sane.

Copyright © 2017, Aashish Barnwal,  All rights reserved.
Read more
Social media & sharing icons powered by UltimatelySocial
Facebook
LinkedIn
SOCIALICON
Instagram
YouTube