About last evening

Meri diary ke kore pannon se,
Tum meri chahat ko mat aaqna,
Yeh ishq hi aisa hai ghalib,
Kambakht lafz kam pad jate hain.

मेरी डायरी के कोरे पन्नो से,
तुम मेरी चाहत को मत ऑकना,
ये इश्क हि ऐसा है ग़ालिब,
कम्बखत लफ्ज़ कम पड़ जाते हैं।

Copyright © 2017, Aashish Barnwal,  All rights reserved.
Read more

Har roz diary khol kar,
Bas yahi socha karta hun,
Kya likhun unke baare mein,
Khud se pucha karta hun,
Likhte unke baare mein hain,
Jinhe hum bakhubi jante hain,
Yahan toh barso beet gaye,
Phir bhi hum anjaan hain.

हर रोज़ डायरी खोल कर,
बस यही सोचा करता हूँ,
क्या लिखूं उनके बारे में,
खुद से पूछा करता हूँ,
लिखते उनके बारे में हैं,
जिन्हे हम बखूबी जानते हैं,
यहाँ तो बरसो बीत गए,
फिर भी हम अनजान हैं।

Copyright © 2017, Aashish Barnwal,  All rights reserved.
Read more

Unse milne ka maza hi kuch alag hai,
Hum yun hi apna hosh na kho baithe the,
Unki sharbati aankhein aur reshmi julfein,
Kambakht dil unka gulam ho baitha tha,
Bas yun kahein ki nasha unki aankhon mein tha,
Aur madhosh hum hue ja rahe the.

उनसे मिलने का मज़ा हि कुछ अलग है,
हम यूँ हि अपना होश ना खो बैठे थे,
उनकी शरबती आँखें और रेशमी जुल्फें,
कम्बख्त दिल उनका गुलाम हो बैठा था,
बस यूँ कहें कि नशा उनकी आँखों में था,
और मदहोश हम हुए जा रहे थे।

Copyright © 2017, Aashish Barnwal,  All rights reserved.
Read more

Ittefaq bhi badi azeeb cheez hai,
Jinse milne ko hum mahino taras rahe the,
Unka deedar yun chalte chalte ho gaya,
Waise toh hum thehre shabdon se khelne wale,
Unhe dekh lafzon ka karwan ruk gaya,
Hoth sile ke sile reh gaye,
Aur aankhon hi aankhon mein ishara ho gaya,
Unki aankhon ka nasha yun chadha til til,
Yeh pagal dil phir se unka deewana ho gaya.

इत्तेफ़ाक़ भी बड़ी अजीब चीज़ है,
जिनसे मिलने को हम महीनो तरस रहे थे,
उनका दीदार यूँ चलते चलते हो गया,
वैसे तो हम ठहरे शब्दों से खेलने वाले,
उन्हें देख लफ़्ज़ों का कारवां रुक गया,
होठ सिले के सिले रह गए,
और आँखों हि आँखों में इशारा हो गया,
उनकी आँखों का नशा यूँ चढ़ा तिल तिल,
ये पागल दिल फिर से उनका दीवाना हो गया।

Copyright © 2017, Aashish Barnwal,  All rights reserved.
Read more

Kal shaam anayas unse mulaqat ho gai,
Phir se wahi purane lamhe yaad dila gai,
Jakhm waise hi bhare na the dil ke,
Us par ek aur gehra waar kar gai,

Mast befikar tha apni zindagi mein,
Inn khushiyon mein darar kar gai,
Bhul gaya tha lafzon mein byaan karna,
Ek baar phir mujhe shayar bana gai.

कल शाम अनायास उनसे मुलाक़ात हो गई,
फिर से वही पुराने लम्हे याद दिला गई,
जख्म वैसे हि भरे ना थे दिल के,
उस पर एक और गहरा वार कर गई,

मस्त बेफिक्र था अपनी ज़िन्दगी में,
इन खुशियों में दरार कर गई,
भूल गया था लफ़्ज़ों में ब्यान करना,
एक बार फिर मुझे शायर बना गई।

Copyright © 2017, Aashish Barnwal,  All rights reserved.
Read more

19088041-A-man-sitting-in-a-cafe-and-thinking-about-love-Stock-Vector[1]

Lafz toh bahut hain bolne ko,
Par kuch baatein aankhon se hi byan ho jati hain,
Waise toh bahut hasinayein dekhi hai maine,
Ek tum hi ho jisse sochkar meri shab ki subah ho jati hai.

लफ्ज़ तो बहुत हैं बोलने को,
पर कुछ बातें आँखों से हि ब्यान हो जाती हैं,
वैसे तो बहुत हसिनाएं देखी है मैंने,
एक तुम हि हो जिसे सोचकर मेरी शब कि सुबह हो जाती है।

[English translation]

So many words are there to say,
But some conversations are better expressed through eyes,
Though I have met many beautiful girls in my life,
It’s you for whom my evenings get wash away in mornings.

Copyright © 2017, Aashish Barnwal,  All rights reserved.
Read more
Social media & sharing icons powered by UltimatelySocial
Facebook
LinkedIn
SOCIALICON
Instagram
YouTube