About last evening – May 6, 2017

Ittefaq bhi badi azeeb cheez hai,
Jinse milne ko hum mahino taras rahe the,
Unka deedar yun chalte chalte ho gaya,
Waise toh hum thehre shabdon se khelne wale,
Unhe dekh lafzon ka karwan ruk gaya,
Hoth sile ke sile reh gaye,
Aur aankhon hi aankhon mein ishara ho gaya,
Unki aankhon ka nasha yun chadha til til,
Yeh pagal dil phir se unka deewana ho gaya.

इत्तेफ़ाक़ भी बड़ी अजीब चीज़ है,
जिनसे मिलने को हम महीनो तरस रहे थे,
उनका दीदार यूँ चलते चलते हो गया,
वैसे तो हम ठहरे शब्दों से खेलने वाले,
उन्हें देख लफ़्ज़ों का कारवां रुक गया,
होठ सिले के सिले रह गए,
और आँखों हि आँखों में इशारा हो गया,
उनकी आँखों का नशा यूँ चढ़ा तिल तिल,
ये पागल दिल फिर से उनका दीवाना हो गया।

Copyright © 2017, Aashish Barnwal,  All rights reserved.

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

Social media & sharing icons powered by UltimatelySocial
Facebook
LinkedIn
SOCIALICON
Instagram
YouTube
%d bloggers like this: